जेवर एयरपोर्ट: विस्थापित परिवार के एक सदस्य को मिलेगी नौकरी, जमीन अधिग्रहण की अधिसूचना जारी

jewar airport project

राज्य सरकार ने जेवर एयरपोर्ट के लिए भूमि अधिग्रहण से विस्थापित हुए परिवारों के पुनर्वास के लिए चिह्नित 50.5250 हेक्टेयर भूमि के अधिग्रहण की अधिसूचना जारी कर दी है। एयरपोर्ट के लिए जमीन अधिग्रहण के बाद बेरोजगार हुए परिवारों के एक सदस्य को नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड द्वारा नौकरी दी जाएगी। विस्थापित परिवारों को एक वर्ष तक 3 हजार रुपये महीने जीवन निर्वाह भत्ता दिया जाएगा। जबकि अनुसूचित जाति एवं जनजाति के परिवारों को एक मुश्त 50 हजार रुपये दिए जाएंगे।

नागरिक उड्डयन विभाग के निदेशक सूर्यपाल गंगवार ने बताया कि गौतमबुद्धनगर के बनवारीवास, किशोरपुर, पारोही, रन्हेरा, रोही, परगना, जेवर में 1239.1416 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण किया है। भूमि अधिग्रहण से विस्थापित हुए परिवारों के पुनर्वास के लिए 50.5250 हेक्टेयर चिह्नित की गई है। शुक्रवार को विस्थापित परिवारों के पुनर्वास की योजना के लिए अधिसूचना जारी की गई है।

गंगवार ने बताया कि एयरपोर्ट निर्माण के लिए निर्माण सामग्री की आपूर्ति में इस्तेमाल होने वाले वाहन भी स्थानीय लोगों और विस्थापित परिवारों से लिए जाएंगे। कंपनी की ओर से विस्थापित परिवारों के सदस्यों को पहचान पत्र भी दिया जाएगा ताकि वे वहां संचालित होने वाली गतिविधियों का लाभ उठा सके। विस्थापित परिवारों के एक एक सदस्य को रोजगार से जोड़ने के लिए उनकी योग्यात के अनुसार कौशल विकास का प्रशिक्षण भी दिया जाएगा।

विस्थापित परिवारों को जहां पुनर्वास दिया जाएगा वहां सामुदायिक भवन, शिक्षण संस्थान, धार्मिक स्थल और ग्राउंड आदि भी विकसित किया जाएंगे। इसके अतिरिक्त पोस्ट ऑफिस, बैंक शाखा की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी। विस्थापित परिवारों को परिवहन खर्च के लिए 50 हजार रुपये और 50  हजार रुपये पुनर्व्यवस्थापन भत्ता दिया जाएगा।

Source from: http://24city.news/