जेवर एयरपोर्ट निर्माण पर अडानी ग्रुप को बड़ा झटका, विदेशी कंपनियों ने मारी बाज़ी

Jewar Airport News

दिल्ली से सटे जेवर एयरपोर्ट के निर्माण के लिए ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल को जिम्‍मेदारी मिली है. अहम बात ये है कि ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल ने अडानी ग्रुप और DIAL को पछाड़ते हुए बाजी मारी है. इस एयरपोर्ट की 29,560 करोड़ रुपये के प्रोजेक्‍ट के लिए जिन चार ग्रुप ने बोली लगाई थी उनमें एंकोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट्स होल्डिंग्स लिमिटेल भी शामिल है।

किसने कितनी लगाई बोली?

स्विट्जरलैंड में मुख्यालय वाली ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल ने जेवर एयरपोर्ट के लिए प्रति यात्री सबसे ज्यादा 400.97 रुपये की बोली लगाई. ज्यूरिख एयरपोर्ट के अलावा DIAL (दिल्ली इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड) ने 351, अडानी इंटरप्राइजेज ने 360 और एंकोरेज इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट्स होल्डिंग्स ने 205 की बोली लगाई थी. ये बिडिंग प्रति यात्री मिलने वाले राजस्व के हिसाब से की गई थी. बहरहाल, जेवर एयरपोर्ट दिल्ली-एनसीआर में तीसरा एयरपोर्ट होगा. इससे पहले दिल्ली में इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट और गाजियाबाद में हिंडन एयरपोर्ट से यात्री विमान उड़ान भरती हैं।

बीते दिनों नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड NIAL के नोडल अधिकारी शैलेंद्र भाटिया ने बताया था कि सभी बोलीदाता तकनीकी मानदंडों को पूरा करते हैं. प्रस्तावित एयरपोर्ट के लिए NIAL ने कंपनी के चयन को लेकर 30 मई को वैश्विक निविदा जारी किया था.उत्तर प्रदेश सरकार ने गौतमबुद्ध नगर जिले में वृहत परियोजना के प्रबंधन के लिये एनएआईएल का गठन किया था।

Courtesy: hindikhabar.com